जेनिफर पहाल्का : एक बेहतर सरकार का संकेतिकरण

TED2012

जेनिफर पहाल्का : एक बेहतर सरकार का संकेतिकरण

857,543 views

Readability: 3.3


क्या सरकार इन्टरनेट की तरह काम कर सकती हैं --बिलकुल खुली और अनुमति के बंधन से मुक्त , सामाजिक कार्यकर्ता और कूट संकेतक जेनिफ़र पहाल्का को विश्वास है कि जल्दी और कम कीमत वाले अनुप्रयोग नागरिकों को आपस में और अपनी सरकारों से जोड़ने का एक प्रभावी नया तरीका है.

विजय कुमार: रोबोट्स जो उड़ सकते हैं

TED2012

विजय कुमार: रोबोट्स जो उड़ सकते हैं

4,538,263 views

Readability: 4.5


उनकी प्रयोगशाला, जो पेन्न में है, विजय कुमार और उनके साथीदार बना रहे हैं - उड़ने वाले चार-रोटर, छोटे, चुस्त रोबोट के झुंड, जो एक दुसरे की प्रस्तुति को जान सकते है , और अन्य तदर्थ टीमें बना सकते हैं -- निर्माण, सर्वेक्षण आपदाओं और कहीं अधिक उपयोगों के लिए |

विडियो इंटरनेट पर तेज़ी से क्यों फ़ैलते है?

TEDYouth 2011

विडियो इंटरनेट पर तेज़ी से क्यों फ़ैलते है?

2,362,247 views

Readability: 4.5


केविन अलोका यूट्यूब के ट्रेंड मैनेजर हैं। वे आम भोले भाले वेब विडियो के बारे में गहरे विचार रखते हैं। अपने टेड यूथ के इस लेक्चर में उन चार कारणों के बारे में बता रहे हैं जिससे विडियो वायरल होते हैं यानी इंटरनेट में तेज़ी से फ़ैलते हैं। (यह इस गज़ब के टेड यूथ ईवेंट में पहला लेक्चर है। अगले महीने कई और भी लेक्चर आएंगे। बस उसी का इंतज़ार कर रहे हैं ...)

एरिक जोहानसन: असंभव फोटोग्राफी

TEDSalon London Fall 2011

एरिक जोहानसन: असंभव फोटोग्राफी

3,851,306 views

Readability: 3.9


एरिक जोहानसन असंभव दृश्यों की वास्तविक फोटो बनाते है -- विचारों को कैद करके, पलो को नहीं | इस विनोद पूर्ण कैसे करे, फोटोशॉप के जादूगर उन नियमों को बताते है जिनका वो उपयोग करते है बेहतरीन दृश्यों को जीवित करने के लिए, उन्हें प्रशंसनीय रूप से दर्शाते हुए |

नील बर्गेस: आपका मस्तिस्क आपको कैसे बताता हैं कि आप कहाँ है

TEDSalon London Spring 2011

नील बर्गेस: आपका मस्तिस्क आपको कैसे बताता हैं कि आप कहाँ है

1,330,647 views

Readability: 4.2


आप कैसे याद रखते हैं कि आपने कार कहाँ पार्क की है? आप कैसे जानते हैं कि आप सही दिशा में जा रहे हैं? न्यूरो वैज्ञानिक नील बर्गेस मस्तिस्क के उस न्यूरल तंत्र का अध्धयन करते हैं जो हमारे आसपास के जगहों का नक्शा बनाता है, और वो कैसे स्मृति और कल्पना से जोड़ता है |

अलेफ मोलिनारी: आओ अंकीय भेद भाव काम करें!

TEDxSanMigueldeAllende

अलेफ मोलिनारी: आओ अंकीय भेद भाव काम करें!

176,464 views

Readability: 4.3


विवरण: पाँच अरब लोग इंटरनेट का उपयोग नहीं कर सकते एलेफ़ मोलिनारी, अंकीय रूप से बाहर किए गए लोगों को कंप्यूटर तक पहुँच प्रदान करते हैं और उन्हें उपयोग करने के तरीके को साझा करते हैं।

क्ले शर्की: सोपा में गडबड क्या है

TEDSalon NY2012

क्ले शर्की: सोपा में गडबड क्या है

1,296,085 views

Readability: 4.6


पिपा या सोपा जैसे विधेयक हमारी-आपकी शेयरिंग से ओत-प्रोत दुनिया पर क्या असर डालेंगे? टेड के दफ़्तरों में, क्ले शर्की बाकायदा एक घोषणा पत्र जारी करते है - एक पुकार हम सब की आज़ादी की रक्षा के लिये - निष्क्रिय रूप से क्नस्यूम करते जाने के बजाय रचने, विमर्श करने और लिंक और शेयर करने की आज़ादी की रक्षा के लिये।

एलेन डे बोटन : अनीश्‍वरवाद २.०

TEDGlobal 2011

एलेन डे बोटन : अनीश्‍वरवाद २.०

2,414,588 views

Readability: 3.7


धर्म के किन पहलुओं को नास्तिक (ससम्मान ) अपना सकते हैं? एलेन डे बोटन नास्तिको के लिए एक धर्म प्रस्तुत करते हैं और उसे कहते हैं "अनीश्‍वरवाद २.०" जो कि धार्मिक रूप को संजोते हुए रिश्तों , रीति रिवाज़ और मोक्ष की हमारी मानवीय आवश्यकताओं को पूरा करता है.

सोनार लूथराः पानी कैनरी से मिले

TEDGlobal 2011

सोनार लूथराः पानी कैनरी से मिले

387,519 views

Readability: 4.6


एक संकटकाल के बाद हम यह कैसे बता सकते हैं कि पानी पीने के लिए सुरक्षित हैं या नही? वर्तमान परीक्षण धीमे और जटिल हैं और देरी घातक हो सकती हैं जैसे कि २०१० में हैती में आए भूंकप के बाद हैजा फैल गया था। Ted Fellow सोनार लूथरा दिखा रहे हैं अपने द्वारा बनाए गए एक सरल उपकरण को जोकि जल्दी पानी का परीक्षण करता हैं -- जो हैं पानी कैनरी।

मोनिका बुलाज: अफगानिस्तान की छुपी किरण

TEDGlobal 2011

मोनिका बुलाज: अफगानिस्तान की छुपी किरण

586,585 views

Readability: 3.6


फोटोग्राफर मोनिका बुलाज ने दिखाई अफगानिस्तान की -- वहाँ कि घर गृहस्ती, धार्मिक क्रिया, पुरुष और स्त्री की प्रभावशाली तस्वीरें । सुर्ख़ियो के अलावा, क्या वास्तव में इस जगह के बारे में हम कुछ जानते है ?

डेमोन होरवित्ज: जेल में दर्शन

TED2011

डेमोन होरवित्ज: जेल में दर्शन

1,283,040 views

Readability: 3.7


डेमोन होरवित्ज जेल विश्वविद्यालय परियोजना की तहत दर्शन सिखाते है, सैन क्वेंटिन के जेल में कॉलेजों में ली जाने वाली क्लासो को ला कर | इस शक्तिशाली और छोटे व्याख्यान में, वो सही और गलत से सामने की कहानी बता रहे हैं जो जल्द ही व्यक्तिगत हो जाती है |

अपर्णा राव: उच्च तकनीय कला (मज़ाकिया अंदाज़ में)

TEDGlobal 2011

अपर्णा राव: उच्च तकनीय कला (मज़ाकिया अंदाज़ में)

836,669 views

Readability: 3.5


कलाकार और TED Fellow अपर्णा राव जाने पहचाने को अंचभित और मजाकिये अंदाज़ में पुन: कल्पित करती है | अपने सहयोगी सोरेन पोर्स के साथ, राव उच्च तकनीय कला स्थापत्यो को बनाती है -- एक टाइप रायटर जो इमेल भेजता है, एक कैमरा जो पूरे कमरे में आप पर नज़र रखता है केवल आपको स्क्रीन पर अदृश्य बनाने के लिए -- जो साधारण वस्तुओं और बातचीत में एक चंचलता का झुकाव लाता है |

मार्को टेम्पेस्ट: संवर्धित वास्तविकता, तकनीकी जादू

TEDGlobal 2011

मार्को टेम्पेस्ट: संवर्धित वास्तविकता, तकनीकी जादू

1,080,526 views

Readability: 4.1


TEDGlobal पर, हाथ की सफ़ाई और आकर्षक कहानी कहने का प्रयोग करके, मायावादी मार्को टेम्पेस्ट एक अल्हड़ छड़ी वाली छवि मंच पर जीवित कर देते हैं |

बंकर रॉय: नंगे पैरों के आंदोलन से मिली सीख

TEDGlobal 2011

बंकर रॉय: नंगे पैरों के आंदोलन से मिली सीख

3,742,317 views

Readability: 3.1


भारत के राजस्थान में, एक ख़ास-ओ-ख़ास विद्यालय है जो ग्रामीण महिलाओं और पुरुषों को शिक्षित करता है -- ज्यादातर अपढ लोगों को -- और उन्हे बदलता है सोलर इंजिनियरों, कलाकारों, दाँत के डॉक्टरों, मेडिकल डॉक्टरों में, और उनके ख़ुद के गाँवों में. इसे बेयरफ़ुट कॉलेज के नाम से जाना जाता है, और इसके स्थापक, बंकर रॉय, समझा रहे हैं ये कैसे काम करता है।

ऐलिसन गोपनिक: बच्चे क्या सोचते हैं?

TEDGlobal 2011

ऐलिसन गोपनिक: बच्चे क्या सोचते हैं?

3,399,137 views

Readability: 3.4


"शिशु और बच्चे मानव प्रजाति के शोध एवं विकास विभाग की तरह है, "मनोवैज्ञानिक ऐलिसन गोपनिक कहती हैं। उनका शोध केंद्रित है बच्चों की सीखने और निर्णय करने की जटिल प्रक्रियाओं पर, जो बच्चे खेलते समय इस्तेमाल करते हैं।

कागज़-कलम से खच-पच करने वालों, एकजुट हो जाओ!

TED2011

कागज़-कलम से खच-पच करने वालों, एकजुट हो जाओ!

1,414,971 views

Readability: 5.2


अध्ययन बताते हैं कि स्केच बनाना और ऐसे-ही कुछ कुछ बनाने से हमारी समझने के शक्ति बढती है - और हमारी रचनात्मक सोच भी। तो हम किसी मीटिंग में उल्टे-सीधी चित्रकारी करते हुये पकडे जाने पर शर्मिंदा क्यों होते हैं? सुन्नी ब्राउन कहती हैं: कुछ-कुछ बनाने वालों, एकजुट हो! वो तर्क रखती हैं अपने दिमागों को पेपर-पेन के ज़रिये खोलने के पक्ष में।

याशेंग हुआंग्: क्या प्रजातंत्र से आर्थिक विकास रुकता है?

TEDGlobal 2011

याशेंग हुआंग्: क्या प्रजातंत्र से आर्थिक विकास रुकता है?

1,041,423 views

Readability: 5


अर्थशास्त्री याशेंग हुआंग चीन और भारत की तुलना करते हैं, और पूछते हैं कि चीन के सत्तावादी अधिकारपूर्ण शासन ने उनकी अद्वितीय आर्थिक बढत में कैसे योगदान दिया --- और फ़िर एक बडे सवाल तक आते हैं : क्या प्रजातंत्र भारत का अभिशाप है? हुआंग का जवाब आपको चौंका सकता है।

राघव केके : अपनी कहानी को हिलायिये

TEDGlobal 2011

राघव केके : अपनी कहानी को हिलायिये

971,415 views

Readability: 3.9


कलाकर राघव केके iPad के लिए अपनी नयी बच्चो की किताब के मज़ेदार खूबियों का प्रदर्शन करते है: जब आप हिलाते है, कहानी -- और आपका परिप्रेक्ष्य -- बदलता है | इस छोटे मोहक व्याख्यान में, वो आमंत्रण देते है हम सभी को अपने परिप्रेक्ष्य को थोड़ा हिलाने के लिए |

एडवर्ड टेने: अनपेक्षित परिणाम

TED2011

एडवर्ड टेने: अनपेक्षित परिणाम

808,673 views

Readability: 4.4


दोनों जानबूझकर और अप्रत्याशित तरीके में - हर नया आविष्कार दुनिया बदल जाता है. इतिहासकार एडवर्ड टेने ऐसे किस्से सुनाते हैं जो हमारी नया करने की क्षमता और उसके परिणामों की उम्मीद की क्षमता के बीच का फासला वर्णन करते हैं.

लुचेन वाकोविच: अन्य तारो के आसपास ग्रहों की खोज

TEDGlobal 2011

लुचेन वाकोविच: अन्य तारो के आसपास ग्रहों की खोज

1,132,038 views

Readability: 3.8


हम ग्रहों को कैसे खोजते हैं -- रहने योग्य ग्रह --अन्य तारो के आसपास? उनकी चमक में हल्की से धुंधलेपन को देखने से जो ग्रहों के उसके तारे के सामने से गुजरने पर होती है, TED Fellow लुचेन वाकोविच और केपलर मिशन ने करीब 1,200 संभावित नए ग्रह मंडल खोजे हैं | नयी तकनीकियों के साथ, वो ऐसे ग्रह भी खोज सकते हैं जिनमे जीवन के लिए उपयुक्त वातावरण हो |

एलेक्स स्टेफेन: शहरों का सहभागी भविष्य

TEDGlobal 2011

एलेक्स स्टेफेन: शहरों का सहभागी भविष्य

1,016,387 views

Readability: 3.9


शहर आने वाले कल को कैसे बचा सकते हैं? एलेक्स स्टेफेन कुछ ऐसी कमाल की स्थानीय पर्यावरण-उपयोगी योजनाओं के बारे में बता रहे हैं, जिनसे हमारी पहुँच उन चीज़ों तक बढ़ जाती है जिनकी हमें इच्छा और ज़रुरत है -- और कारों में बीतने वाला समय भी कम हो जाता है.

फिलिप ज़िम्बर्डो: युवा लड़को का अंत?

TED2011

फिलिप ज़िम्बर्डो: युवा लड़को का अंत?

2,300,934 views

Readability: 5.3


मनोविज्ञानी फिलिप ज़िम्बर्डो पूछते हैं: लड़के क्यूँ संघर्ष कर रहे हैं? उन्होने कुछ आँकड़े रखे हैं (जैसे ग्रॅजुयेशन में लड़को की कमी, अंतरंगता और रिश्तों के बारे में अधिक चिंता.) और उन्होने कुछ कारण के बारे में सुझाव भी दिए है. वो इस बारे आपकी सहायता भी चाहते हैं! इस वार्ता को देखें और उसके पश्चात उनका एक १० प्रस्नो का सर्वेक्षण भरे.

क्या हम गलत रोगाणुओं को छान रहे हैं?  : जेसिका ग्रीन

TEDGlobal 2011

क्या हम गलत रोगाणुओं को छान रहे हैं? : जेसिका ग्रीन

583,300 views

Readability: 4.9


क्या हमें बाहरी चीजों को अस्पतालों से बाहर ही रखना चाहिए? परिस्थिति विज्ञानशास्री और TED Fellow जेसिका ग्रीन ने पाया कि यांत्रिक वायु - संचालन से कई प्रकार के रोगाणुओं से छुटकारा मिलता है, लेकिन गलत प्रकार के: जो कि अस्पताल में रह जाते हैं और अधिक रोग जनक हो सकते हैं |

एडम ओस्त्रो: आपके अंतिम स्थिति अद्यतन के बाद

TEDGlobal 2011

एडम ओस्त्रो: आपके अंतिम स्थिति अद्यतन के बाद

1,194,581 views

Readability: 4.7


हम सभी की सामाजिक मीडिया में उपस्थिति हैं -- एक आभासी व्यक्तित्व जो स्थिति अद्यतन से बना है, त्वीट्स(tweets) और संबंधों से, कंप्यूटर के बादलों में संग्रहीत. एडम ओस्त्रो एक बड़ा सवाल पूछते हैं: हमारे चले जाने के बाद उस व्यक्तित्व का क्या होगा? क्या यह हो सकता ... कि वह जीता रहे?

जूलियन ट्रेज़र: बेहतर सुनने के 5 तरीके

TEDGlobal 2011

जूलियन ट्रेज़र: बेहतर सुनने के 5 तरीके

6,677,180 views

Readability: 3.6


हमारी शोर से भरी दुनिया में, ध्वनि विशेषज्ञ जूलियन ट्रेज़र कहते हैं, "हम अपना सुनना खो रहे है." इस संक्षिप्त, आकर्षक व्याख्यान में, ट्रेज़र अपने कानो को फिर से दूसरों और हमारे आसपास दुनिया को सचेतता से सुनने के योग्य बनाने के पांच तरीके बाँटते है.

जोज़ेट शीरेन : भूख का अंत, अभी

TEDGlobal 2011

जोज़ेट शीरेन : भूख का अंत, अभी

873,890 views

Readability: 3.5


जोज़ेट शीरेन, संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम की अध्यक्षा इस विषय पर विचार प्रस्तुत कर रही हैं कि दुनिया में सभी के लिए पर्याप्त भोजन उपलब्ध होने के बाद भी क्यों लोग अभी भी भूखे रह जाते हैं, भुखमरी के कारण मौतें होती हैं और भोजन को जंगी हथियार के रूप में इस्तमाल होता है. उनका यह नजरिया है कि, "खाद्य समस्याएँ उस प्रकार की हैं कि इनका समाधान व्यक्तिगत स्तर पर नहीं हो सकता. इसके लिए हमें एकजुटता दिखानी होगी".

रोरी स्टीवर्ट: अफगानिस्तान में युद्ध को समाप्त करने का समय

TEDGlobal 2011

रोरी स्टीवर्ट: अफगानिस्तान में युद्ध को समाप्त करने का समय

693,929 views

Readability: 4.6


ब्रिटिश सांसद रोरी स्टीवर्ट 9 / 11 के बाद अफगानिस्तान के पार चल कर गए, नागरिकों और सरदारों के साथ एक जैसे बात करते हुए. अब, एक दशक बाद, वह पूछते हैं: पश्चिमी और गठबंधन सेनाएं अभी भी वहाँ क्यों लड़ रही हैं? वह पहले की सैन्य हस्तक्षेप की सीख बताते हैं -- बोस्निया, उदाहरण के लिए - और दिखाते हैं की विनम्रता और स्थानीय विशेषज्ञता सफलता की चाबियाँ हैं.

रोबोट जो एक पक्षी की तरह उड़ता है

TEDGlobal 2011

रोबोट जो एक पक्षी की तरह उड़ता है

6,458,934 views

Readability: 3.7


बहुत रोबोट उड़ सकते हैं - लेकिन कोई भी एक असली पक्षी की तरह नहीं उड़ सकता. मरकुस फिशर और उनके सहयोगियों ने फ़ातो में बनाया है स्मार्ट बर्ड, एक बड़ा, हल्का रोबोट, एक सीगुल्ल पर बना, जो अपने पंख फड़फड़ा कर उड़ता है. २०११ TED ग्लोबल से एक उड़नेवाला ताजा प्रदर्शन.

केविन स्लाविन:कैसे एल्गोरिदम हमारी दुनिया को आकार देते हैं

TEDGlobal 2011

केविन स्लाविन:कैसे एल्गोरिदम हमारी दुनिया को आकार देते हैं

3,841,185 views

Readability: 3.5


केविन स्लाविन का तर्क है कि हम ऐसी दुनिया में रहते हैं जो बनी है- और जिसे तेजी से नियंत्रित कर रहे हैं - एल्गोरिदम. टेड ग्लोबल से इस दिलचस्प बात में, वह दिखाते है कि कैसे यह जटिल कंप्यूटर प्रोग्राम निधारित करते हैं: जासूसी रणनीति, स्टॉक की कीमतें, फिल्म लिपियाँ, और वास्तुकला . और उसने चेतावनी देते हैं है कि हम ऐसा कोड लिख रहे हैं जो हम खुद नहीं समझ सकते, जिनका निहितार्थ हम नियंत्रित नहीं कर सकते.

 मिक्को  ह्य्प्पोनें : वायरस से युध्ह, इन्टरनेट की सुरक्षा

TEDGlobal 2011

मिक्को ह्य्प्पोनें : वायरस से युध्ह, इन्टरनेट की सुरक्षा

1,732,777 views

Readability: 4.2


यह 25 साल पहले की बात है जब पहला पीसी वायरस ब्रेन अ इन्टरनेट पर आया, और जो तब एक झुंझलाहट का कारण था अब बन गया है अपराध और अवैध जासूसी के लिए एक परिष्कृत उपकरण. कंप्यूटर सुरक्षा विशेषज्ञ मिक्को ह्य्प्पोनें हमें बताता है कि कैसे हम इंटरनेट को, जिस रूप मैं उसे हम जानते हैं, इन नए वायरस से बचा सकते हैं..